US में भारतीय महिला को 15 साल की जेल: सौतेली बेटी को पीटती थी, रखती थी भूखा

0
224
न्यूयॉर्क. अमेरिका में भारतीय मूल की महिला को क्वींस की सुप्रीम कोर्ट ने 15 साल जेल की सजा सुनाई है। 35 साल की शीतल रानोट पर अपनी 12 साल की सौतेली बेटी के साथ क्रूरता बरतने और उसे भूखा रखने का आरोप था। इसी साल जुलाई में ज्यूरी ने शीतल को दोषी करार दिया था। बाथरूम में बंद रखा, बुरी तरह की पिटाई…
– न्यूज एजेंसी के मुताबिक, क्वींस सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस रिचर्ड बुचर ने शुक्रवार को शीतल को सजा सुनाई।
– सौतेली बेटी माया के साथ डेढ़ साल से ज्यादा समय तक क्रूरता बरती गई।
– इस दौरान कई बार माया की पिटाई की गई, उसे भूखा रखा गया।
– दिसंबर 2012 से लेकर मई 2014 के बीच माया को कई बार बाथरूम में कैद कर रखा गया।
– शीतल को करीब तीन हफ्ते तक चली सुनवाई के बाद जुलाई में ज्यूरी ने दोषी करार दिया था।
डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी ने कहा- बुरी सौतेली मां का प्रतीक है शीतल
– क्वींस डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी रिचर्ड ब्राउन ने कहा- “शीतल रानोट एक बुरी सौतेली मां का प्रतीक है। 12 साल की लड़की का वजन सिर्फ 58 पौंड रह गया था। उसके शरीर पर मौजूद निशान उसके दर्द को आज भी बयां करते हैं। किसी भी बच्चे के साथ ऐसा बर्ताव नहीं किया जाना चाहिए।”
– माया के पिता राजेश रानोट पर भी उसकी पिटाई करने, गैरकानूनी तरीके से कैद करने और उसकी जान खतरे में डालने का आरोप लगा है।
– राजेश रानोट को सजा पर फैसला बाद में सुनाया जाएगा।
मामला कैसे सामने आया?
– एक बार शीतल ने माया को मेटल की झाड़ू से बुरी तरह से पीटा। इससे माया की बायीं कलाई और दाएं घुटने पर गहरी चोट लगी।
– मेडिकल अफसर मौके पर पहुंचे तो खून से लथपथ माया दर्द से कराह रही थी। माया को फौरन हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी सर्जरी हुई।
– बाद में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए शीतल और राजेश को माया की कस्टडी नहीं दी। शीतल के खिलाफ केस दर्ज किया गया।
– पुलिस ने माया के स्कूल में भी पूछताछ की। उसके टीचर ने बताया कि माया पिटाई का जिक्र करती थी।
– एक बार तो शीतल ने माया की बेलन से पिटाई की। इस घटना में उसके बाएं गाल पर सूजन आ गई थी।
– एक बार शीतल ने माया को उस समय चेहरे पर मारा, जब वह अपने जूते पहन रही थी। उस समय भी माया की आंख के पास सूजन आ गई।

LEAVE A REPLY